Pooja Room:   by kalky interior

पूजा कक्ष के लिए वास्तु सलाह

Rita Deo Rita Deo
Google+
Loading admin actions …

घर की योजना बनाते समय, अंतरिक्ष की बाधाओं के कारण, कई परिवार अलग पूजा कक्ष स्थापित करने में सक्षम नहीं होते लेकिन भगवान के आराधना के लिए जगह बनाने की आवश्यकता को अनदेखा भी नहीं करना चाहिए। पूजा करने के लिए घर में अलग कमरा या क्षेत्र निर्धारित करके हम हर सुबह सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न कर सकते हैं जिससे घर का वातावरण और उसमे रहने वालों का , दिमाग, शरीर और आत्मा सक्रिय रहेंगे। हमारी कार्यकुशलता में वृद्धि होगी और ज़िन्दगी में प्रगति, समृद्धि और शांति का संचार होगा।

इसी कारन पूजा कमरा या पूजा क्षेत्र को बनाने और सजाने के वक़्त कुछ नियमो का पालन करना जरूरी है क्योकि अगर यह गलत दिशा में है, तो आप जितना भी पूजा-अर्चना करें कोई फर्क नहीं पड़ेगा   । वास्तु शास्त्र के कुछ सकारात्मक नियम हैं जिन्हें पूजा कक्ष बनाने से पहले पालन करना चाहिए ताकि घर में सुख, शांति, वैभव और खुसहाली का वातावरण बना रहे।

1. पूजा कक्ष हमेशा उत्तर, पूर्व या घर के पूर्वोत्तर पक्ष में स्थित होना चाहिए।

2. पूजा के दौरान उत्तम दिशा

पूजा करते समय आपका चेहरा पूर्व / उत्तर की ओर होना चाहिए।

3. मूर्ति का सही आकार

आदर्श रूप से ध्यान कक्ष में कोई मूर्ति नहीं होनी चाहिए। लेकिन अगर कोई रखना चाहता है, तो मूर्ति की ऊंचाई 9 से अधिक नहीं होनी चाहिए और 2 से कम

4. मूर्ति का सही स्थापन


पूजा करते समय, मूर्ति के पैर की दिशा और स्तर पूजा करने वाले व्यक्ति के छाती स्तर पर होना चाहिए, चाहे वह खड़े हो या बैठे हों। ऐसा पूजा स्थल को निश्चित करने के लिए आतंरिक सज्जाकार की सहायता ले सकते हैं।

5. पूजा स्थल का सही क्षेत्र

जिस स्थल पर भगवान की मूर्ति रखी गई है उसके ऊपर कुछ भी नहीं रखा जाना चाहिए और पूजाघर को सीढ़ियों के नीचे कभी न बनायें।

6. दीवार पर पूजास्थल बनाने से पहले सोचें

पूजा कक्ष को बेडरूम में या बाथरूम की दीवार के नजदीक दीवार पर कभी नहीं बनाया जाना चाहिए।

7. पूजास्थल में स्वछता

Residence - Shriniwas J. M.  Pune.: modern Living room by Spaceefixs
Spaceefixs

Residence—Shriniwas J. M. Pune.

Spaceefixs


कभी भी पैरों और हाथों को धोए बिना पूजा के कमरे में प्रवेश न करें। ध्यान रहे की इस क्षेत्र में घुसने से पहले पैरो को एक दूसरे के खिलाफ रगड़कर साफ करना प्रतिबंधित है इसीलिए पानी से धो कर ही प्रवेश करें। बाएं हाथ को साफ रखें और जल चढ़ाने के लिए हमेशा दाएं हाथ का इस्तेमाल करें।

8. पात्रों का चयन

पूजा कक्ष में, तांबा के पात्रों का उपयोग केवल विशेष पूजा-अनुष्ठानों के लिए किया जाना चाहिए और हमेशा पानी भी इसमें एकत्र किया जाना चाहिए।

9. पूजाघर के आस-पास खिड़की-दरवाज़े की मौजूदगी

पूजा कक्ष में उत्तर या पूर्व में दरवाजे और खिड़कियां होनी चाहिए

10. अग्निकुंड की दिशा

अग्निकुंड को पूजा कक्ष की दक्षिणपूर्व दिशा में होना चाहिए। पूजा में चढाने के लिए प्रसाद को पूर्व की ओर देखते हुए बनाया जाना चाहिए।

11. दीवारों का रंग

पूजा कक्ष की दीवारों का रंग सफेद, नींबू या हल्का नीला होना चाहिए और सफेद संगमरमर का इस्तेमाल  होना चाहिए।

12. दीपक का सही स्थल

L&T South city, 3 BHK - Mr. Sundaresh:  Artwork by DECOR DREAMS
DECOR DREAMS

L&T South city, 3 BHK—Mr. Sundaresh

DECOR DREAMS

पूजा कक्ष के दक्षिणपूर्व कोने में दीपक स्टैंड रखा जाना चाहिए। पूजा कक्ष से सम्बंधित वास्तु ज्ञान की जानकारी का अध्ययन करते समय हमें निम्नलिखित विषयों का ख्याल रखना होगा। पूजा कक्ष से वास्तु सम्बंधित इन बातों पर ध्यान रखें।

1. घर में पूजा कक्ष का उचित स्थान   

2. प्रवेश की दिशा  

3. खिड़कियों की दिशा और स्थिति    

4. भगवन की मूर्ति या चित्र की दिशा और नियुक्ति     

5. पूजा सामग्री युक्त अलमारी की दिशा और नियुक्ति  

6.  कमरे की रंग योजना

पूजा और वास्तु से सम्बंधित कुछ और सुझाव के लिए इस विचार पुस्तक को ज़रूर देखें ।

आपको ये पूजाघर सम्बंधित वास्तु विचार कैसे लगे, हमें लिखकर बताना न भूलें
modern Houses by Casas inHAUS

Need help with your home project? We'll help you find the right professional

Request free consultation

Discover home inspiration!