Bedroom Designs: modern Bedroom by Pancham Interiors

क्यों वास्तु-अनुसार मास्टर बेडरूम को पूर्व का सामना नहीं करना चाहिए

Rita Deo Rita Deo
Google+
Loading admin actions …

भारत में, वास्तु शास्त्र एक पवित्र विज्ञान माना जाता है जो लोगों को तनाव मुक्त जीवन जीने में मदद करता है। वास्तु के अनुसार, प्रत्येक दिशा में अपनी अनूठी विशेषताओं होती है जो उन दिशाओं में घर के विभिन्न कमरों को स्थान दी जाती है। घर के सदस्यों में तालमेल बनाये रखने और समस्याओं को दूर रखने के लिए शयनकक्ष में में सामंजस्य बनाये रखने महत्वपूर्ण है, जहां दुनिया की चिंताओं से बचने के लिए सारे सदस्य तनाव मुक्त होकर सोते हैं ।

यदि आप वास्तु के सभी सिद्धांतों के बारे में नहीं जानते तो आपका ये जानना ज़रूरी है की घर के पूर्व हिस्से में घर के मालिक का बेडरूम नहीं होना चाहिए । यदि इसे वैज्ञानिक रूप से देखा जाए तो पूर्व के  बेडरूम में कम नींद आती है क्योंकि सूरज उधर से उगता है। बेहतर आराम पाने के लिए, सूरज की रोशिनी को बाहर रखने के लिए एक मोटी या भारी पर्दे की आवश्यकता होगी। यह धुप आपके नींद के चक्र में गड़बड़ी करेगा, खासकर यदि आप देर से सोते हों, और बेडरूम घर में सद्भाव सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ये दिशा अविवाहित बच्चों के लिए आदर्श है।

1. एक पूर्व बेडरूम में रहकर एक नये विवाहित जोड़े के लिए आदर्श नहीं है

हर कीमत पर उत्तर पूर्व में मुख्य बेडरूम रखने से बचें क्योकि यह स्मृति समस्याओं, मनोभ्रंश, चिड़चिड़ापन और सबसे खराब हिस्सा होने का कारण माना जाता है तथा इन समस्याओं के लिए कोई वास्तु उपाय नहीं है।

2. मुख्य कमाने वाले का बेडरूम पूर्व में न हो

जो व्यक्ति घर में कमाने वाले हों या परिवार के मुख्य धन अर्जक के रूप में कार्यशील हैं उन्हें किसी भी हाल में पूर्व दिशा के बेडरूम में रहने की सलाह नहीं दी जाती।

3.वास्तुअनुसार बिस्तर की दिशा और स्थान

बिस्तर मास्टर बेडरूम के दक्षिण या दक्षिण-पश्चिम भाग में रखा जाना चाहिए।शयन कक्ष के दक्षिण की ओर सिर के साथ सोना सर्वोत्तम है क्योकि दक्षिण अच्छी गहरी नींद लाता है और लंबे जीवन को सुनिश्चित करता है। बिस्तर के पीछे कोई खिड़की नहीं होनी चाहिए और संभव हो तो कमरे के बीच में बेड न रखें।

4. अच्छी नींद के लिए हलके रंग

बेडरूम की दीवारों के लिए आदर्श रंग गुलाब, नीले और हरे रंग के हल्के रंग हैं। मास्टर बेडरूम और अतिथि कक्ष को अच्छी नींद के लिए नीले रंग के विभिन्न रंगों में चित्रित किया जाना चाहिए। सफ़ेद, पीले, गहरे भूरे और काले रंगो का कभी इस्तेमाल न करें ।

5. बेडरूम के लिए आदर्श फर्श

मास्टर बेडरूम में संगमरमर के फर्श का उपयोग न करें, खासकर नए विवाहित जोड़ों के लिए। यह ध्यान रखें कि आपके बेडरूम का दक्षिण पश्चिम भाग खाली न हो और हमेशा सज्जा या फर्नीचर इत्यादि से भरा हो।

6.बेडरूम के लिए आदर्श आकार

बेडरूम डिजाइन करते समय एक वर्ग या आयताकार आकार का चयन करें। यदि आप एक आयत के साथ जा रहे हैं, तो अनुपात कम रखना।

7. अलमारी की दिशा

बेडरूम में फर्नीचर की सही नियुक्ति घर पर महसूस करता है। वास्तु का सुझाव है कि चूंकि बेडरूम में सामान्य रूप से बेड, अलमारी आदि जैसी भारी वस्तुएं होती हैं, इसलिए उन्हें दक्षिण, दक्षिण पश्चिम या कमरे की पश्चिम दिशा में रखा जाना चाहिए।

8. वास्तुअनुसार संलग्न बाथरूम का दिशा और स्थान

यदि एक संलग्न बाथरूम है, तो देखें कि यह दक्षिण-पूर्व कोने या कमरे के उत्तर-पश्चिमी कोने में हो। वास्तु शास्त्र बेडरूम के पश्चिम या उत्तर की ओर संलग्न बाथरूम की अनुमति देता है। हालांकि, कुछ इसे बेडरूम के पूर्वी, दक्षिण-पूर्व, उत्तर या उत्तर-पश्चिम में स्थानांतरित करने का सुझाव देते हैं। संलग्न बाथरूम का दरवाज़ा हमेशा बंद होना चाहिए।

9. बेडरूम में बड़े दर्पण से बचें

वास्तु शास्त्र के अनुसार, दर्पण बेडरूम के अंदर स्थित नहीं होना चाहिए क्योंकि इससे जोड़ों के बीच अक्सर गलतफहमी और झगड़े होते हैं। हालांकि, यदि आवश्यक हो, तो ड्रेसिंग टेबल को दक्षिण पूर्व या कमरे के उत्तर-पश्चिम भाग की दीवार के साथ जगह दें।

बेडरूम, रसोई और घर के अन्य हिस्सों के लिए और अधिक वास्तु युक्तियों के लिए इस विचार पुस्तक को भी देखें ।

आपको ये विचार कैसे लगे, हमें लिख कर ज़रूर बताएं ।
modern Houses by Casas inHAUS

Need help with your home project? We'll help you find the right professional

Request free consultation

Discover home inspiration!