6 वास्तु युक्तियों से घर के प्रवेश द्वार को सजाये | homify

Request quote

Invalid number. Please check the country code, prefix and phone number
By clicking 'Send' I confirm I have read the Privacy Policy & agree that my foregoing information will be processed to answer my request.
Note: You can revoke your consent by emailing privacy@homify.com with effect for the future.

6 वास्तु युक्तियों से घर के प्रवेश द्वार को सजाये

Rita Deo Rita Deo
Modern corridor, hallway & stairs by シーズ・アーキスタディオ建築設計室 Modern
Loading admin actions …

प्रवेश द्वार घर का चेहरा होता है और मेहमानों का स्वागत करते हुए उनपर घरवालों की प्रतिष्ठा का पहला प्रभाव भी बनाता है । लेकिन यह आपके घर का वह हिस्सा भी है जो सकारात्मक और नकारात्मक ऊर्जा दोनों को एक समान प्रवेश देता है, इसीलिए अनिवार्य है की सकारात्मक ऊर्जा और खुशहाली को आकर्षित करने के लिए वास्तु की प्राचीन युक्तियों को प्रवेश द्वार पर भी लागु करे।

वास्तु शास्त्र के प्राचीन नियमो के पालन से घर के वातावरण को स्वच्छ रखने के साथ साथ आप प्रवेश द्वार से अंदर आने वाले नकारात्मकता ऊर्जा को वहां द्वार पर ही नस्ट कर सकते है। आईये इन 6 सरलता से लागु होने वाले वास्तु की युक्तियों को अपनाकर घर के प्रवेश द्वार को कम लागत में सुगम और सकारात्मक ऊर्जा स्वागत करने वाला बनाये!

1. स्वच्छ और निर्मल

सबसे पहले, आपके प्रवेश मार्ग को स्वच्छ, व्यवस्थित और संगठित होना चाहिए। गंदे जूतों का रैक, फ़टे -पुराने द्वार चटाई और धूल-मकड़ी के जाल इत्यादि प्रवेश से सकारात्मक ऊर्जा को दूर कर देते हैं । मेहमानों का स्वागत इस सुरुचिपूर्ण ढंग से सजे परवेश द्वार से करे जो स्वच्छ वायु के साथ घर में सकारात्मक ऊर्जा का भी आवागमन करे ।

2. हरियाली से स्वास्थ का आवगमन

आपके प्रवेश द्वार को सुंदर और भाग्यशाली बनाने के लिए हरियाली से इसका परिचय करवाए जो खुशहाली को भी आमंत्रित करेगा। यहां सजे घास और पेड़ के सुन्दर समिश्रण जैसे आपके प्रवेश द्वार पर संभव न हो तो भी एकल तंदरुस्त गमले में सजा पौधे द्वार पर शांत और उत्साही प्रभाव पैदा कर सकता है और केवल सकारात्मक भावनाओं को घर में प्रवेश करने की अनुमति देता है।

3. प्रवेश द्वार के समक्ष दर्पण न रखे

अपने प्रवेश द्वार के सामने दर्पण न रखे क्योके इससे सकारात्मक तत्वा मार्ग से परवर्तित होकर बाहर की ओर जा सकते है। हालांकि दर्पण दुर्भाग्य और नकारात्मक बलों को परवर्तित करने के शक्ति रखता है,   लेकिन इसके सकारात्मक ओर नकारात्मक तत्वों में भेद करने के क्षमता न होने के कारण यह दोनों को वापस परवर्तित कर सकता है। यदि आप आईने से घर को सजाने का विचार रखते हैं तो उसके स्थान के ओर ध्यान करें।

4. अपने जूते व्यवस्थित करें

झूठ बोलने वाले गंदे जूते की कहानी से सभी परिचित हैं, इसिलए प्रवेश द्वार से इन्हे दूर रखने के लिए वास्तु शास्त्र में ज़ोर दिया गया है । साफ और सुव्यवस्थित प्रवेश के लिए जूता कैबिनेट में अपने जूते को साफ और व्यवस्थित करें ओर यदि आपके जूते खुले शेल्फ़ में संग्रहीत हैं, तो सुनिश्चित करें कि वे अच्छी तरह से रखे गए हैं और ठीक से खड़े हैं।

5. सौभाग्य का आवागमन करने हेतु वस्तुए

छोटी छोटी वस्तुए जिन्हे हम ज़यादातर नज़रअंदाज़ कर देते है, जैसे खुली खिड़कियों से आती ताज़ी हवा या मोहक रंगो से सजी पेंटिंग या मेज पर सजी फूलदान, पर ये ही प्रवेशद्वार से सकारात्मक ऊर्जा का आवागमन कर उसका घर में संचार करते हैं। जूतों की सफाई के लिए द्वार की चटाई, सकारात्मकता को आमंत्रित करते वास्तु के ये सुन्दर प्रतिक, रौशनी फैलाती रंगीन बत्तियां भी नकारात्मकता को बाहर रखने के लिए प्राकृतिक अवरोधक बन सकते हैं।

6. उज्जवल और हलके सुगंध से सरोबार

आपके प्रवेश द्वार उज्ज्वल होने के साथ साथ हर समय सुखद महक से सरोबार होना चाहिए। यदि उसे पर्याप्त प्राकृतिक प्रकाश प्राप्त नहीं है, तो उस स्थान पर  कुछ उज्ज्वल कृत्रिम रोशनी स्थापित करें और  ताज़ा खुशबू सुनिश्चित करने के लिए, मुख्य दरवाजे के पास सुगंधित फूलों का फूलदान रखें या पौधा लगाए ताकि प्रवेश के रास्ते में हर वक्त स्वच्छ ओर निर्मल वायु के झोके चलते रहे।

इन उपर्युक्त युक्तियों को अगर आंतरिक सजावट के दौरान ध्यान में रखे तो आपके प्रवेश द्वार से हर समय खुशहाली का आवागमन होगा! अधिक जानकारी के लिए इस 10 सकारात्मक ऊर्जा योजनाओ के साथ अपने घर को भरने के लिए सुझावों पर ज़रूर नज़र डालें !

Modern houses by Casas inHAUS Modern


Discover home inspiration!