Living Room:  Living room by ZERO9

9 आसान तरीको से वास्तु सिद्धांतों को उपयोग करें

Rita Deo Rita Deo
Google+

Request quote

Invalid number. Please check the country code, prefix and phone number
By clicking 'Send' I confirm I have read the Privacy Policy & agree that my foregoing information will be processed to answer my request.
Note: You can revoke your consent by emailing privacy@homify.com with effect for the future.
Loading admin actions …

वास्तु शास्त्र एक प्राचीन और पारंपरिक हिंदू प्रणाली या वास्तुकला का विज्ञान है जो घर के अंतरिक्ष व्यवस्था में गृहस्वामी द्वारा सद्भाव और सकारात्मक प्रभाव को बनाये रखने में सहायता देता है । पश्चिम संसृति में इसे फेंग शुई का नाम दिया गया है और इसकी तकनीकें एक निश्चित स्थान की वस्तुओं में शांति, सकारात्मक कंपन और संतुलन प्रदान करती हैं।  

घर में शान्ति, आत्मीयता, वैभव, सुख और प्रेम बनाये रखने के लिए वास्तु शास्त्र द्वारा प्रदान किए गए औजारों का उपयोग वास्तव में संभव है।  इसमें डिज़ाइन, लेआउट, माप और जमीन तैयार करने हेतु  पारंपरिक विधियों का वर्णन है । इस लेख में आपके घर के लिए वासतु शास्त्रे की सिध्धांतो को घर में लागु करने के ९ आसान तरीको का वर्णन किया गया है ।

1. प्रत्येक वस्तु की अपने जगह

जब हम वास्तु शास्त्र को घर के विभिन्न हिस्सों पर लागू करते हैं, तो यहाँ के हर मुख्य वास्तु और क्रिया के लिए उचित स्थान निर्धारित किया जाता है. घर को पुनर्निर्मित करने के बजाय, बनाते वक़्त ही रसोई, शयन कक्ष. स्नान घर, पूजा घर आदि को वास्तु विज्ञानं मुताबिक स्थापित कर लें तो आपका घर व्यवस्थित, स्वच्छ और निर्दोष दिखाई देगा।

2. सद्भाव संचार करें

 Bedroom by Markham Stagers
Markham Stagers

Dormitorio Japonés zen

Markham Stagers

वास्तु शास्त्र में यह माना जाता है कि घर के रिक्त और बेतरतीब से सजाये हुए स्थानों का मन पर कुप्रभाव जो वहां के रहने वाले लोगो के मनोदशा और भावनात्मक स्थिति का संतुलित बिगाड़ सकता है। यदि घर में सद्भाव और शान्ति बनाये रखने के लिए ज़रूरी है की घर के प्रत्येक कमरे में केवल आवश्यक वस्तुओं का उपयोग हो और हल्के रंग और नरम प्रकाश का सही संतुलन बना रहे।

3. पर्यावरण के साथ प्रवाह

बाथरूम आमतौर पर घर को सजाने के लिए सबसे कठिन जगहों में से एक है, लेकिन वास्तु शास्त्र से यह कार्य में सरलता आती है । इस प्रवृत्ति के आधार पर सजे इस सुरुचिपूर्ण बाथरूम में  हल्के रंग के पृष्ठभूमि, नरम  प्रकाश व्यवस्था, पर्याप्त दर्पण और हरियाली बिखेरता पेड़ का गमला, इस स्थान को विशाल और शांतिपूर्ण महसूस करवाते हैं।

4. सकारात्मक को आकर्षित करें

 Living room by ZD+A

वास्तु का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हमारे पर्यावरण के संगठन से हमारे जीवन में सकारात्मक ऊर्जा और विचार को आकर्षित करने पर केंद्रित है। इसलिए यदि आप अपने घर में समृद्धि, प्रेम और खुशी लाने चाहते हैं तो इन निम्न में इन पद्धतियों को नियमित आदतों बना सकते हैं ।:
- सभी कमरों में बड़े पत्ते वाले हरे पौधे गमलो में रख कर सजाये।

- लिविंग रूम और मास्टर बेडरूम में, विभिन्न आकारों के गहरी लाल मोमबत्तियों का उपयोग करें।

- पर्याप्त खिड़कियां लगाने पर विचार करें जो प्राकृतिक प्रकाश और हवा को घर के हर हिस्से में पंहुचा सके।

5. संगठित कमरे का महत्त्व

संगठित कमरे  का महत्त्व वास्तु में हमेशा स्वच्छ और संगठित स्थानों के महत्व का उल्लेख किया है। इस मोहक शयन कक्ष में सरल डिजाइनों और नरम रंगों के दर्शन का पालन करते हुए सजाया गया है जहाँ मन और शरीर को  शांति हासिल हो सके।

6. तत्व का सम्मान

वास्तु प्रत्येक तत्व का सम्मान करना सिखाता है इसके सिद्धांतों का पालन करके आप घर की हर जगह और हर वस्तु को पवित्र बना सकते है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि आपके घर के हर वस्तु और हर कोने में देखभाल और ध्यान दें, जो इसके योग्य है।

7. सकारात्मक लहरों का प्रवाह

Living Room:  Living room by ZERO9
ZERO9

Living Room

ZERO9

सकारात्मक लहरों का प्रवाह ये सभी युक्तियां बेकार हो सकती हैं यदि आप वास्तु शास्त्र के सबसे महत्वपूर्ण सिद्धांत का आवाहन करना भूल जाये । अपने घर को सुखद, प्रेरक और खुशहाल करने के लिए यह अत्यंत आवश्यक है की अच्छी शुद्ध तरंगे से हर पल सकारात्मक लहरों का प्रवाह बना रहे, जिसे आने आने मेहमानों तक भी पहुंचा सकते हैं।

8. प्रकृति को प्रवेश करने की अनुमति दें

वास्तु शास्त्र के अन्तर्गत घर में पौधों, फूलों और प्रकृति को शामिल करना बहुत महत्वपूर्ण है। यदि आपके पास बगीचे बनाने के लिए उपलब्ध स्थान है, तो उसे सजाना आवश्यक है और यदि उपयुक्त स्थान नहीं है, तो आप छोटे पौधे, ऊर्ध्वाधर उद्यान या फूलदान से अपने घर में प्रकृति के रंगों को शामिल करने के लिए प्रयत्न कर सकते हैं। 

घर के अंदर उगने वाले पौधों की उपयुक्त और उन्हें अपने घर की सजावट में शामिल करने के तरीको के बारे में जानकारी बढ़ाने के लिए हम आपको इनडोर पौधों को पढ़ने के लिए आमंत्रित करते हैं!

9. प्रतीकों का उपयोग और महत्व

आजकल वास्तु के प्रतीकों को सजाने का एक चलन बन गया है और इन्हें इस्तेमाल करने वाले इन प्रतीकों का महत्व और वास्तविक उपयोग जाने बिना इनको घर में लगाते हैं जिससे घर में क्लेश भी हो सकता है । इसलिए ज़रूरी है की जिन वास्तु के वस्तुओं का आप अपने घर में उपयोग करते हैं उनका पूरी सजावट में महत्वपूर्ण योगदान हो और वे आपको शांति और सौहार्द भी दें ।

 Houses by Casas inHAUS

Need help with your home project? We'll help you find the right professional

Discover home inspiration!