आधुनिकता और लालित्य का एक मिश्रण

Sucheta Mehra Sucheta Mehra
Google+
Loading admin actions …

अपने जीवन काल में हर मानव मन की लालसा होती है कि अपना भी एक घर हो,अपने  सिर पर अपनी छत हो । आप किसी भी छोेटे बालक अथवा बालिका से अपने परिवार का चित्र बनाने के लिए कहें तो सर्वप्रथम एक घर बनाते हैं ।पुराने काल में घर का निर्माण स्वयं के ही सुविधा अनुसार करते थे परन्तु आज आधुनिक युग में मकान बनाने से पहले व्यवसायिक वास्तूकारों की सलाह व उनके द्वारा निर्मित मानचित्र के अनुसार कम से कम भूखंड मे  अधिक से अधिक स्थान प्राप्त कर सकते हैं जैसा कि आप देख सकते हैं कि स्पेस इन्टरफेस , गुडगाँव के व्यवसायिक वास्तुकार द्वारा निर्मित  इस भवन का निर्माण कार्य बहुत ही व्यवसायिक एवं सुन्दरता से किया गया है। आईये स्वागत कक्ष से आरम्भ करते हुए  आपको पूरे घर की सैर कराते हैं।

स्वागत कक्ष

स्वागत कक्ष में बैठने के लिए सोफा और कुर्सी की समुचित व्यवस्था है,दीवार पर लगे लैम्प शेड से निकलता प्रकाश व दीवार की लम्बाई के बराबर लगे लाल, सफेद रंग के पर्दे कक्ष की शोभा को और निखार रहे हैं।ऊपर भीतरी छत के किनारों से निकलता प्रकाश पर्दों और वातानुकूलित यंत्र को  दृष्टिगत करा रहा है।आयताकार कालीन का सलेटी रंग का सोफा ,दीवार ,पर्दो आदि के रंगों का समायोजन  कक्ष के सौन्दर्य में और वृद्धि कर रहे हैं।

बैठक कक्ष

आइये अब आगे  चलते हैं बैठक कक्ष की ओर,यहाँ अर्धचन्द्राकार में लगा सोफा और गोलाकार में बिछे सलेटी कालीन पर रखी गोल लकडी के साँचे में बनी काँच की पारदर्शक मेज पर केन्द्र में रखा गुलदस्ता कक्ष को परिपूर्ण कर रहा है।दीवार पर लगा चित्र और उस पर पड रहा प्रकाश उस चित्र को और भी जीवन्त कर रहा है। यहाँ पूरा परिवार एक साथ बैठ कर दूरदर्शन का आनंद ले सकता है।

भोजन कक्ष

आइये भोजन कक्ष में चलें। भोजन कक्ष में प्रवेश करते ही सबसे पहले भोजन मेज पर नजर जाती है।इस मेज पर छह लोगों के  एकसाथ  बैठ कर भोजन करने की क्षमता है।भोजन करने का आनंद जो सबके साथ है वह अलग में कहाँ।मेज के ठीक ऊपर धातु  के छडों के रूप में झूमर द्वारा प्रकाश की पूर्ण व्यवस्था से कक्ष का सौन्दर्य बढ रहा है।भोजन की मेज के पास से ही धरातल से प्रथम खंड की ओर जाने के सीढी का निर्माण किया गया है।आप देख सकते हैं कि सीढी की सुुन्दरता बढाने हेतु लकडी के पायदानों पर समान आकार में संगमरमर पत्थर का प्रयोग किया गया है।ऊपर की ओर जाती सीढी के नीचे की खाली कोने की जगह में दो कुर्सी ,एक काँच की मेज के साथ प्रकाश की पर्याप्त व्यवस्था से जगह का पूरा इस्तेमाल किया गया है। सीढी के साथ ऊपर जाती दीवार पर बना चित्र सीढी और भोजन कक्ष में जीवन्तता उत्पन्न कर रहा है।

रसोई

चलिए अब वहाँ चलते हैं जहाँ भोजन की व्यवस्था की जाती है। रसोई कक्ष का साफ होना अनिवार्य है क्योंकि यही वह स्थान है जहाँ भोजन बनने से लेकर पकने तक गंंदगी होती ही है परन्तु यह अपने हाथ में है कि हमें साथ ही स्वच्छता का ध्यान रखना है  रसोई में बडी खिडकी से आता प्राकृतिक प्रकाश पूरी रसोई को प्रकाशमय कर रहा है जो अति आवश्यक है । अलमारी और चूल्हे पर प्रकाश की उचित व्यवस्था की गई है।प्रशीतक उचित स्थान पर रखा गया है। बर्तन एवं राशन आदि सब सामान आवरण युक्त  अलंमारियों एवं दराजों में रखा गया है जिससे बाहर रसोई कक्ष सुथरा  लग रहा है । सिंक भी उचित स्थान पर बनाया गया है।

शयन कक्ष

चलिए चलते है शयन कक्ष में, शय्या का विशेष स्थान होता है,यही वह स्थान है जहाँ भोजन ग्रहण करने के पश्चात् मन करता है आराम करने का तो यहाँ शय्या पर हल्के रंगों का प्रयोग कर सिरहाने लकडी पर कलात्मक रंगों क संयोजन करा गया है । उसी दीवार पर लगा चित्र ,कालीन एवं आराम कुर्सियाँ आपस में सामन्जस्यता उत्पन्न कर के कक्ष की खूबसूरती को निखार रहे हैं। यदि आपको इस घर की सुन्दरता मनभावन लगी हो तो आप और डिजाइन्स देखने के लिए यह विचार-धारा देखना ना भूलें: हाईटेक रेसिडेन्स इन बान्द्रा

modern Houses by Casas inHAUS

Need help with your home project? We'll help you find the right professional

Request free consultation

Discover home inspiration!